स्वस्थ जीवन शैली पर टिप्स

स्वस्थ जीवन शैली पर टिप्स स्वस्थ जीवन शैली पर टिप्स, महत्व, लाभ, नियम, अर्थ, क्या है,

आजकल की टेक्नोलॉजी ने हमारे जीवन शैली को पूरी तरह से बदलकर रख दिया है। जिसके कारण हमारी दिनचर्या पूरी तरह से अस्थ-व्यस्थ होती जा रही है। लोग अपने बिजी शेड्यूल और व्यक्तिगत मुद्दों के बीच फंसे रहते हैं जिसका असर हमारे स्वस्थाय पर पड़ता है, और जीवनशैली बदल जाती है। अगर आप नहीं जानते तो बता दें कि अच्छी जीवनशैली के लिए दो चीजों पर ध्यान देना बहुत जरूरी है सबसे पहले खाघ पदार्थ और दूसरी आपकी दिनचर्या, जिसका असर सबसे ज्यादा आपके स्वस्थ जीवन पर पड़ता है। इसके लिए आपको कई लोगों द्वारा सलाह भी दी जाती है कि अपनी दिनर्चया में बदलाव के लिए ये करे वो करें… लेकिन आप क्या करते हैं ये आपके दिल और दिमाग पर निर्भर करता है। क्योंकि इस भागती दौड़ती जिंदगी में हम अपने आपको समय देना जो भूल जाते हैं। आइये इस लेख में हम आपको इसके बारे में डिटेल में बताते हैं कि यह क्या है और इसे कैसे सुधारा जा सकता है.

स्वस्थ जीवन शैली क्या है, अर्थ

स्वस्थ जीवन शैली प्रोत्साहन दिवस क्या है
स्वस्थ जीवन शैली दिनचर्या
स्वस्थ जीवन शैली स्वस्थ आहार
स्वस्थ जीवन शैली
स्वस्थ जीवन शैली के जरुरी नियम
स्वस्थ आहार लेना
अच्छी नींद लें
कॉफी पीने से बचें
टेंशन से दूर रहें
नकरात्मक सोच को छोड़ सकरात्मक रहना
प्रतिदिन उठकर व्यायाम करना
स्वच्छ वातावरण स्वस्थ जीवन शैली
स्वस्थ जीवन शैली का महत्व
स्वस्थ जीवन शैली से लाभ
स्वस्थ जीवन शैली के विकल्प
स्वस्थ जीवनशैली के टिप्स

स्वस्थ जीवन शैली क्या है, अर्थ

स्वस्थ जीवन शैली है अच्छा पोषण, शारीरिक गतिविधि और स्वस्थ शरीर जो आपको स्वस्थ जीवनशैली की ओर ले जाता है। इसके लिए हमें अपने लिए कई ठोस नियम तैयार करने होते हैं, जैसे- फास्ट फूड ना खाना, चीनी से बनी चीजों का सेवन कम से कम करना, सोने के समय को सही रखना, रोजाना व्यायाम करना, चिताओं से दूर रहना आदि। क्योंकि आप तभी स्वस्थ हो सकते हैं जब आप इन सबको अपनाएंगे। जरूरी नहीं की आप इनमें बदलाव ना करें। आप अपने हिसाब से इसमें बदलाव कर सकते हैं लेकिन उतना करें जितना हो पाए। बदलाव ही प्रकृति का नियम है लेकिन वो समय रहते हो जाए तो ज्यादा अच्छा होता है। हर किसी एक्टिविटी को करने के लिए सही समय का चयन करें।

स्वस्थ जीवन शैली प्रोत्साहन दिवस क्या है
स्वस्थ जीवनशैली प्रोत्साहन दिवस वो चीज है जिसके जरिए आप लोगों को प्रोत्साहित कर सकते हैं, अच्छी जीवन शैली जीने के लिए। इसलिए इसके लिए भी एक दिवस मनाया गया है। यह हर महीने कोई भी दिन हो सकता है, यानि इसके लिए कोई दिन निर्धारित नहीं है इसे आप कभी भी मना सकते हैं. इस दिन लोगों को ये बताया जाता है कि, आप किस तरह अपनी जीवन शैली में बदलाव ला सकते हैं, क्योंकि बदलाव ही आपको स्वस्थ रख सकता है।

इन्हीं चीजों के लिए लोगों को ज्यादा से ज्यादा प्रोत्साहित किया जाता है। ताकि वो हमेशा जीवनशैली को सुधार सके।

स्वस्थ जीवन शैली दिनचर्या
दिनचर्या का सुधार आपको स्वस्थ और अच्छा जीवन दे सकता है। क्योंकि इससे आपका शरीर खुलता है, और आप ताजगी भरा महसूस करते हैं। जिसकी जरूरत आज के समय में सबसे ज्यादा है क्योंकि ये भागती दौड़ती जिंदगी आपको सबकुछ सिखाती है लेकिन अच्छा जीवन जीना नहीं सिखाती। क्योंकि आपके पास अपने लिए इतना समय नहीं होता कि, आप अपनी जीवनशैली पर ध्यान दे सके। इसलिए जितना हो सके उसे सुधारे तभी आपका जीवन यापन अच्छे से हो पाएगा।

आप अपनी दिनचर्या में व्यायाम का समय, खाने का सही समय, रहन- सहन का तरीके पर ज्यादा ध्यान देगे तो आपको इसका असर जल्द ही अपने ऊपर देखने को मिलेगा। जिसके बाद आपको खुद लगेगा कि, इससे हम अपने आप में सुधार ला सकते हैं।

स्वस्थ जीवन शैली स्वस्थ आहार
भोजन कम खाना या ना खाना डाइटिंग नहीं हैं. आमतौर पर लोगो का मानना हैं कि मोटे होने का कारण केवल भोजन है, जो कि बिलकुल गलत हैं. खाना की अपनी एक अलग जरुरत हैं. वजन कम करने के लिए रेगुलर एक्सरसाइज और योगा के साथ डाइट भी जरुरी हैं. लेकिन इसका मतलब भूखा रहना यह बिलकुल गलत हैं. शारीरिक श्रम करने वाले शरीर को एक हेल्थी डाइट भी बहुत जरुरी होती है. अगर आप किसी भी तरह का वर्कआउट करते है, लेकिन डाइट अच्छी नहीं लेते है, तो थोड़े ही समय में आपको कमजोरी आने लगेगी और अन्य परेशानियाँ भी होने लगेगी. किसी भी शरीर में बीमारी बोलकर नहीं आती, लेकिन हम जैसा अपने शरीर के साथ करेंगें वैसा ही हम पायेंगें. अगर उटपटांग खाना खायेंगे तो शरीर भी कुछ समय बाद आपको अंदर से बीमार करते जायेगा. हेल्थी डाइट लेने से आप जीवन के हर पड़ाव में स्वस्थ रहेंगें. बड़ी से बड़ी बीमारी से लड़ने की शक्ति आपको मिलेगी.

स्वस्थ जीवन शैली

समय डाइट
सुबह 6-8 के बीच चाय व 2 बिस्किट
9-10 के बीच ब्रेकफास्ट
1-2 बीच लंच
4-5 के बीच चाय व् हल्का सुखा नाश्ता
7-8 के बीच डिनर
रात 10 बजे भूख लगे तो फल खा सकते है

स्वस्थ जीवन शैली के जरुरी नियम

स्वस्थ आहार लेना


स्वस्थ जीवन के लिए सबसे जरूरी है संतुलित आहार। डॉक्टर्स की सलाह माने तो दिन में कम से कम तीन बार संतुलित आहार का सेवन करना चाहिए। जो आपको पौष्टिक रखेगा। रात में खाने को हल्का रखें ताकि आपको आसानी से नींद आ सके। अपनी डाइट में ज्यादातर आप हरी सब्जियां, फल और साबुत अनाज ही शामिल करें इससे आपके शरीर में प्रोटीन की मात्रा पूरी होगी।

अच्छी नींद लें


खुद को स्वस्थ रखना है तो नींद पूरी ले। कई अध्ययनों में ये बात सामन आई है कि, पूरी नींद ना लेने से हद्य रोग और मोटापे जैसी बीमारी हो सकती है। इसलिए सहीं नींद जरूर लेनी चाहिए।

कॉफी पीने से बचें


जितना हो सके उतनी कम कॉफी पीएं क्योंकि कॉफी आपकी नींद भगा सकती है साथ ही आपको अस्वस्थ महसूस कराती है। इसलिए जितना हो उतना कम कॉफी पीएं।

टेंशन से दूर रहें


तनाव आपके लिए काफी हानिकारक है। हर रोज तनाव में रहने से न केवल वजन बढ़ेगा बल्कि आप कई बीमारियों के शिकार भी हो जाएगे। इसलिए आपको ये समझना होगा कि, किस चीज को आप अपने जीवन में ज्यादा महत्व दें। इसके लिए आप एक्सरसाइज करें जिससे आप इस समस्या से निजात पा सकते हैं।

नकरात्मक सोच को छोड़ सकरात्मक रहना


जिस दिन आप अपने आसपास हो रहे नकरात्मक चीजों को पीछे छोड़ देगे उस दिन आप अपने आप को स्वस्थ महसूस करेगें। क्योंकि इससे आपको हर तरफ एक सूकुन भरा माहौल नजर आएगा।

प्रतिदिन उठकर व्यायाम करना


आप रोजाना उठकर व्यायाम करें इससे आपकी जीवन शैली में काफी बदलाव आएगा और आप ताजगी भरा महसूस करेगें। जिससे आपकी दिनचर्या भी अच्छी रहेगी।

स्वच्छ वातावरण स्वस्थ जीवन शैली


आपको अपने आसपास स्वच्छता बनाएं रखने की जरुरत होती हैं यह स्वस्थ जीवन शैली के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है, क्योकि यदि आप अपने आसपास सफाई रखेंगे, तो इससे वातावरण स्वच्छ रहेगा, और यदि वातावरण स्वच्छ रहेगा तो आप स्वस्थ रहेंगे. इसलिए यह बेहद आवश्यक है.

स्वस्थ जीवन शैली का महत्व


हमारे बड़े-बुजुर्ग अक्सर हमें समय पर सोने, पौष्टिक भोजन खाने और रोजाना समय पर जागना। गाड़ी और दोपहिया वाहन में ना घुमने के बजाए वो हमें पैदल चलने की सलाह देते थे। हालांकि हम उनकी बातों को नकारकर अस्वास्थ्यकर दिनचर्या का पालन करते थे जिसका असर हमारे स्वास्थ पर सबसे ज्यादा पड़ता था। लेकिन आज लगता है कि, वो जो भी सुझाव देते थे वो एकदम सही था। एक स्वस्थ जीवन शैली के लिए इन नियमों का पालन करना बेहद जरूरी है। स्वस्थ आदतों की ओर रुख करने की आवश्यकता पर इन दिनों काफी ध्यान भी दिया जा रहा है।

स्वस्थ जीवन शैली से लाभ


आपको बता दें कि एक स्वस्थ जीवन शैली का पालन करने से निम्न लाभ होते हैं :-

यह आपको अधिक संगठित और आपको तंदरूस्त बनाता है।
यह आपको शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रखता है और सारी बीमारियों से दूर रखता है।
तनाव मुक्त रहने का ये एक आसान और अच्छा तरीका है।
यह सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करता है।
ये हमारे परिजनों को हमारे और करीब लाता है।
धूम्रपान, शराब पीना, जंक फूड जैसे अस्वास्थ्यकर कामों में शामिल होने से बचाता है.
साथ ही टीवी स्क्रीन पर बहुत अधिक समय बिताने से कई गंभीर बीमारियां जन्म ले सकती हैं यह उनसे बचने में भी मदद करता है।
स्वस्थ जीवन शैली के विकल्प
हम यह जानते हैं कि तेजी से चलने वाली जीवनशैली ज़्यादा दिनों तक नहीं चल सकती| यदि हम योगाभ्यास पर ध्यान दें तो हम अपने स्वास्थय को बेहतर बना सकते हैं। लेकिन हम अपनी आदतों से बाज नहीं आते जिसके कारण हम कभी भी स्वस्थ जीवन की ओर नहीं बढ़ पाते। स्वस्थ जीवन शैली के लिए यहां हमारे पास कुछ विकल्प है –

ताकत से भरा हुआ, स्वस्थ और पौष्टिक भोजन खाएं।
परिवार एवं मित्रों के संग , गुणवत्तापूर्ण समय बिताएं
स्वयं के साथ कुछ समय बिताए, इसके लिए चाहे आप बगीचे में शांति से घूमे। ताकि आपने मन को सूकुन मिले।
अपनी अस्त-व्यस्त जीवन को सुधारे और जो कार्य आप कर सकते हैं उन्हें अपने आप स्वंय करें, मशीनों की मदद ना लें।

स्वस्थ जीवनशैली के टिप्स



1. अपने रोजमर्रा की ज़िन्दगी में कुछ बदलाव कीजिये, जैसे पानी ज्यादा पीयें, दिन भर में 15 गिलास पानी जरुरी हैं, जिसमे से 10 गिलास पानी शाम 7 बजे से पहलें ही पीने की आदत बनाये . रात के समय में कम ही पानी

2 : सुबह में जब भी उठे नार्मल पानी 1 गिलास पीये . फ्रेश होने के बाद 1 गिलास गुनगुना पानी नीम्बू की कुछ बूंदे डालकर पीयें, इससे पाचनतंत्र मजबूत होगा और साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ेगी .

3 : सुबह  गुनगुना पानी लेंने से एसिडिटी और कब्ज (constipation) जैसी परेशनियाँ भी दूर होती हैं .

4 : luke warm water के 30 mints बाद tea/coffee के साथ 2 बिस्किट लें. चाय के साथ हमेशा ही कुछ खाये इससे एसिडिटी की परेशानी नहीं होती . साथ ही दिन में 2 से ज्यादा चाय या काफी न लें .

5 : दिन भर की दिनचर्या में सुबह का नाश्ता बहुत जरुरी होता हैं, इसे कभी भी छोड़े न . इसमें आप पोहा, ओट्स (oats) , उपमा, वीट फ्लेक्स आदि में से कोई एक लें सकते हैं, साथ ही 1 गिलास दूध या जूस या छाछ या कोई भी एक मौसमी फल को अपने ब्रेकफास्ट का अहम् हिस्सा बनाये .

6 : अपने लंच के समय से 10 mints पहलें 1 गिलास पानी लें . लंच में सलाद, दही व सब्जियां को अधिक से अधिक अपने खाने में शामिल करें . अपनी भूख से थोडा कम खाने का प्रयास करे जैसे आप 4 चपाती खाते हैं तो 3 ही लें .

7 : अगर आप ज्वार कि चपाती खा सके तो बहुत अच्छा होगा .इसमें शक्कर की मात्रा कम होती हैं इसलिए यह गेंहू से ज्यादा अच्छा होता हैं .

8 : खाने के बीच-बीच में पानी ना लें, इससे पाचन ख़राब होता हैं . खाने के तुरंत बाद भी बहुत ज्यादा पानी ना लें, केवल 2 घूँट ही पानी लें और 30 mints बाद 1 गिलास पानी पियें.

9 : फ्रिज व वाटर कूलर के ठन्डे पानी से दूर ही रहे. आप जल्द से जल्द वजन कम करना चाहते हैं, तो दिन भर luke warm water लें .

10 : शाम के नाश्ते में भी चाय या काफी के साथ बिस्किट लें . साथ ही कुछ हल्का जैसे परमल(मुरमुरा) , भेल, कालें चने या जूस या छाछ लें . शाम के नाश्ते के कारण आपको रात के खाने के समय में बहुत ज्यादा भूख महसूस नहीं होगी, जिस कारण आप कम खानामें ही काम चला पाएंगे .

11  : डिनर के 10 mints पहलें भी 1 गिलास पानी लें, साथ ही सलाद को प्राथमिकता दे .इससे पाचन क्रिया दुरुस्त होती हैं .

12 : व्यक्ति के शरीर को सबसे ज्यादा नुकसान रात के खाने से होता है. देर रात गरिष्ट खाना खाने से बहुत सी परेशानियाँ होने लगती है.कोशिश करे रात को हल्का भोजन लें. खाने के तुरंत बाद सोना नहीं चाइये.

13 : कोशिश करे रात 8 बजे तक अपना डिनर कर लें. अगर आप देर रात तक जागते हैं, तब आप रात को भूख महसूस होने पर फ्रूट सलाद ले सकते हैं. जल्दी खाने की आदत से भोजन सही तरह से पचता हैं .
उपर लिखे सभी तरीकों को आप अपने दिन भर के समय के हिसाब से अपने रूटीन में शामिल कर सकते हैं. यह सभी Healthy Life style Tips In Hindi आपकी सेहत से जुड़े हैं, इन्हें अगर आप अपने रूटीन में लाते हैं, तो भविष्य में होने वाली परेशानियों से दूर हो सकते हैं. जिस तरह कमाना, पढ़ना, घर या खाना जरुरी हैं, उसी तरह सेहत भी जरुरी हैं, क्यूंकि हम सभी स्वस्थ्य रहेंगे तभी खुशियां रहेगी. यह भी सही हैं कि पूरी ज़िन्दगी इस तरह से नहीं रहा जा सकता लेकिन हफ्ते के 7 दिन में से 5 दिन तो आप इस दिनचर्या के अनुसार चल ही सकते है. सप्ताह के अंत पर जो चाहे बिना किसी चिंता के खायें, लेकिन इस 5 दिन में खुद के साथ कोई बेईमानी ना करे.
यह आपकी सेहत के लिए अच्छी आदतें हैं. जिन्हें अपनाने से आपको फुर्ती मिलेगी और जीवन में खुशियाँ आएगी क्यूंकि स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मस्तिष्क का वास होता हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *